आंकड़े अनुपलब्ध!

बीईई के बारे में

Printer-friendly version

भारत सरकार ने ऊर्जा संरक्षण अधिनियम, 2001 के प्रावधानों के तहत ऊर्जा दक्षता ब्यूरो (बीईई) की स्थापना 1 मार्च 2002 को की। ऊर्जा दक्षता ब्यूरो का मिशन और प्राथमिक उद्देश्य भारतीय अर्थव्यवस्था की अत्‍यधिक ऊर्जा मांग को कम करके ऊर्जा संरक्षण अधिनियम, 2001 के समग्र ढांचे के भीतर स्‍व-नियंत्रण और बाजार सिद्धांतों पर जोर देते हुए नीतियां और कार्यनीतियां बनाने में सहायता प्रदान करना है।

बीईई की भूमिका

बीईई नामित उपभोक्ताओं, नामित एजेंसियों और अन्य संगठनों के साथ समन्‍वय करता है और ऊर्जा संरक्षण अधिनियम के तहत उसे सौंपे गए कार्यों के निष्‍पादन में मौजूदा संसाधनों और अवसंरचना की पहचान करता है, उनका पता लगाता है और उपयोग करता है।

बीईई के प्रमुख प्रोत्‍साहन कार्यों में निम्‍नलिखित शामिल हैं:​

  • ऊर्जा दक्षता और संरक्षण के बारे में जागरूकता पैदा करना और उनका प्रचार-प्रसार करना
  • ऊर्जा और इसके संरक्षण के दक्ष उपयोग के लिए तकनीक में कार्मिकों और विशेषज्ञों के लिए प्रशिक्षण की व्‍यवस्‍था और आयोजन करना
  • ऊर्जा संरक्षण के क्षेत्र में परामर्शी सेवाओं को सुदृढ़ करना
  • अनुसंधान और विकास को बढ़ावा देना
  • परीक्षण और प्रमाणीकरण प्रक्रियाओं का विकास और परीक्षण सुविधाओं को बढ़ावा देना
  • प्रायोगिक परियोजनाएं और निष्‍पादन परियोजनाएं बनाना और उनका कार्यान्वयन करना
  • ऊर्जा दक्ष प्रक्रियाओं, उपकरण, यंत्रों और प्रणालियों के उपयोग को बढ़ावा देना
  • ऊर्जा कुशल उपकरण या यंत्रों के उपयोग के लिए अधिमान्य उपचार को प्रोत्साहित करने के लिए कदम उठाना
  • ऊर्जा दक्षता परियोजनाओं के वित्त-पोषण को बढ़ावा देने के अभिनव उपाय करना
  • ऊर्जा और इसके संरक्षण के दक्ष उपयोग को बढ़ावा देने के लिए संस्थानों को वित्तीय सहायता प्रदान करना
  • ऊर्जा और इसके संरक्षण के दक्ष उपयोग पर शैक्षिक पाठ्यक्रम तैयार करना
  • ऊर्जा और इसके संरक्षण के दक्ष उपयोग के संबंध में अंतर्राष्ट्रीय सहयोग कार्यक्रमों को लागू करना

विनियामक



"विधि, न्याय और कंपनी कार्य मंत्रालय (विधायी विभाग) नई दिल्ली द्वारा 1 अक्‍तूबर, 2001/ 9 आश्‍विन, 1923 (शक) को संसद के निम्न अधिनियम को 29 सितंबर, 2001 को राष्ट्रपति की स्वीकृति प्राप्त हुई, और इसे एतदृद्वारा सामान्य जानकारी के लिए प्रकाशित किया जाता है:-



ऊर्जा संरक्षण अधिनियम, 2001, 2001 का 52 (29 सितंबर 2001)

ऊर्जा और इसके संरक्षण के दक्ष उपयोग के लिए और इससे संबद्ध या प्रासंगिक मामलों के लिए अधिनियम प्रदान करना। इसे भारत गणराज्य के वावनवें वर्ष में संसद द्वारा निम्नानुसार पारित किया जाता है:-”

अध्‍याय 01

 

संक्षिप्‍त शीर्षक, सीमा और प्रारंभण

अध्‍याय 02

ऊर्जा दक्षता ब्यूरो की स्थापना और निगमन

अध्‍याय 03

ऊर्जा प्रबंधन केंद्र की परिसंपत्तियों, देनदारियों और कर्मचारियों का स्थानांतरण

अध्‍याय 04

ब्यूरो की शक्तियां और कार्य

अध्‍याय 05

ऊर्जा और इसके संरक्षण के दक्ष उपयोग को लागू करने के लिए केंद्र सरकार की शक्तियां

अध्‍याय 06

ऊर्जा के दक्ष उपयोग और इसके संरक्षण के लिए कुछ प्रावधानों को लागू करने की राज्य सरकार की शक्तियां

अध्‍याय 07

केंद्र सरकार द्वारा अनुदान और ऋण

अध्‍याय 08

दंड

अध्‍याय 09

अपीलीय अधिकरण की स्थापना

अध्‍याय 10

ब्यूरो को दिशा-निर्देश जारी करने के लिए केंद्र सरकार की शक्तियां