आंकड़े अनुपलब्ध!

पीआरजीएफईई

Printer-friendly version

ऊर्जा दक्षता के लिए आंशिक जोखिम गारंटी कोष (PRGFEE):



वित्तीय संस्थानों (बैंकों/ एनबीएफसी) के ऋण जोखिम को कम करने के लिए बीईई ने पीआरजीएफईई को संस्थागत बनाया है, जो ऊर्जा दक्षता (ईई) परियोजनाओं के लिए ऋण देने में शामिल जोखिम का आंशिक कवरेज प्रदान करता है। पीआरजीएफईई ऋण राशि का 50% या प्रति परियोजना 10 करोड़ रुपए, जो भी कम हो, तक की गारंटी देता है। सरकारी भवनों, निजी भवनों (वाणिज्यिक या बहुमंजिला आवासीय भवनों), नगर पालिकाओं, एसएमई और उद्योगों को पीआरजीएफईई सहायता प्रदान की गई है। यह गारंटी भाग लेने वाले वित्तीय संस्थानों (पीएफआई) को दी जाती है जो ईई परियोजनाओं को लागू करने के लिए ईएससीओ को ऋण का विस्तार करेंगे।

विद्युत मंत्रालय द्वारा पीआरजीएफईई नियमों को मई 2016 में अधिसूचित किया गया था। पीआरजीएफईई की प्रचालन नियमावली को पर्यवेक्षी समिति द्वारा अनुमोदित किया गया था और यह हितधारकों के लिए आसानी से उपलब्ध है। अब तक, पांच वित्‍तीय संस्‍थानों को पीआरजीएफईई के तहत पैनलबद्ध किया जा चुका है जो आंध्र बैंक, यस बैंक, टाटा क्लीनटेक कैपिटल लिमिटेड, आईडीएफसी फर्स्ट बैंक और इंडसइंड बैंक हैं।

  • गतिविधियाँ/ विकास/ कार्यशालाएँ
  • डाउनलोड
  • पीआरजीएफईई के तहत पीएफआई का संपर्क विवरण
  • इस कार्यक्रम के लिए बीईई के संबंधित अधिकारी
  • कार्यान्वयन एजेंसी का संपर्क विवरण