आंकड़े अनुपलब्ध!

एसएमई

Printer-friendly version

जलवायु परिवर्तन के कारण ऊर्जा दक्ष मितव्‍ययता को अपनाना सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) सहित विनिर्माण क्षेत्र जो दुनिया के संसाधनों की व्‍यापक खपत करते हैं, के लिए अत्यधिक आवश्यक है। एमएसएमई क्षेत्र का भारतीय अर्थव्यवस्था में महत्‍वपूर्ण स्‍थान है, यह औद्योगिक उत्पादन में 45% से अधिक का योगदान देता है और देश के निर्यात के 40% का मूल्यवर्धन करता है।

एमएसएमई, जो भारतीय अर्थव्यवस्था का महत्वपूर्ण विकास चालक है, ऊर्जा-गहन उद्योगों के संदर्भ में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यद्यपि उनकी व्यक्तिगत ऊर्जा खपत कम है, लेकिन उनका सामूहिक उपयोग काफी अधिक है। नवीनतम तकनीकों तक पहुंच न होने से इस क्षेत्र को ऊर्जा सुरक्षा नहीं मिलती और यह वैश्विक बाजार में प्रतिस्पर्धा नहीं कर पाता है। ऊर्जा की अधिक खपत और पर्यावरण की स्‍थिति के बिगड़ने का सीधा संबंध इन उद्यमों में तकनीकी क्षमता की कमी से है, जो बेहतर प्रौद्योगिकियों और परिचालन प्रथाओं की पहचान और उपयोग करने, तालमेल स्‍थापित करने और इन्‍हें अपनाने पर निर्भर करता है।

एमएसएमई के ऊर्जा दक्षता और प्रौद्योगिकी उन्नयन पर राष्ट्रीय कार्यक्रम

ऊर्जा दक्षता को बढ़ावा देने में एमएसएमई के महत्व को पहचानने के लिए ऊर्जा दक्षता ब्यूरो द्वारा 2007 में राष्ट्रीय ऊर्जा दक्षता कार्यक्रम और एमएसएमई के प्रौद्योगिकी उन्नयन की शुरुआत की गई थी। एमएसएमई के लिए वित्त की उपलब्‍धता की कमी ऊर्जा संरक्षण उपायों और ऊर्जा कुशल प्रौद्योगिकियों को लागू करने में एक सबसे बड़ी बाधा है। इसे ध्‍यान में रखते हुए, ब्यूरो ने 12वीं योजना के दौरान 4 एसएमई क्षेत्रों में वित्तीय सहायता देते हुए 21 प्रायोगिक ऊर्जा दक्ष प्रौद्योगिकियों को लागू किया है। क्षेत्रों में इन तकनीकों का अनुकरण करने में सहायता देने के लिए, समूह स्तर की इकाइयां (अर्थात् स्थानीय सेवा प्रदाता, औद्योगिक संघ आदि) को भी मजबूत सुदृढ़ किया गया। इससे प्राप्‍त अनुभव को प्रभावी ढंग से पूरे देश में लागू करने के लिए, केस स्टडीज, ऑडियो विजुअल जैसे ज्ञान प्रबंधन उत्पादों को भी विकसित किया गया।

 

ब्यूरो, एसडीए और इसके हितधारकों के निरंतर प्रयासों के कारण, भारत में एमएसएमई ने पारंपरिक लागत और गुणवत्ता दृष्टिकोण के स्‍थान पर ऊर्जा दक्षता, शून्य अपशिष्ट और कम कार्बन उत्सर्जन पर ध्‍यान देना शुरू कर दिया है।

 

वर्तमान कार्यकलाप

  • इसके अलावा, अधिक प्रतिस्पर्धा लाने और इस क्षेत्र को अधिक ऊर्जा दक्ष बनाने के लिए, ऊर्जा के उपयोग और यूनिट में इसके प्रवाह के साथ-साथ वर्तमान परिदृश्य में प्रक्रियाओं और उत्पादन आउटपुट के लिए इसके संबंध सहित ऊर्जा की खपत और इसके प्रवाह को समझना बेहद जरूरी है। इस प्रकार, ब्यूरो 10 क्षेत्रों की ऊर्जा रूपरेखा की निगरानी कर रहा है जिसमें ऊर्जा उपयोग पैटर्न, विस्तृत विश्लेषण और प्रौद्योगिकी अंतराल विश्लेषण शामिल होगा। ब्यूरो ने ज्ञान प्रदान करने के लिए बीस (20) से अधिक क्षेत्रों के लिए ऊर्जा दक्ष प्रौद्योगिकियों पर पचास (50) से अधिक मल्टीमीडिया ट्यूटोरियल विकसित किए हैं और इन तकनीकों को आसानी से अपनाया है।
  • ब्यूरो ने एमएसएमई क्षेत्र में ऊर्जा दक्षता बढ़ाने पर हाल ही में आयोजित राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन के दौरान डीसी, एमएसएमई के कार्यालय के साथ “एमएसएमई क्षेत्र की ऊर्जा सुरक्षा को बढ़ावा देने” नामक कार्यक्रम के संयुक्त कार्यान्वयन के लिए एक समझौता-ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। इस कार्यक्रम का कार्यान्वयन जल्द ही शुरू होगा।

हालाँकि इस क्षेत्र में ऊर्जा की बचत की क्षमता बहुत अधिक है, जिसका बीईई भरपूर उपयोग करना चाहती है, लेकिन भारतीय एसएमई उद्यमियों को काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, जो जोखिम नहीं लेना चाहते, दस्‍तावेज की प्रक्रिया जटिल है और जागरूकता/ प्रेरणा की कमी है। ऊर्जा प्रदर्शन में सुधार के लिए ब्यूरो के सामूहिक प्रयासों से इस क्षेत्र के लिए ऊर्जा दक्षता कार्यक्रमों के प्रति जागरूकता, अवधारणा और जवाबदेही की वर्तमान स्थिति पूरे देश में अहम बन गई है।

ज्ञान प्रबंधन (बीईई एसएमई कार्यक्रम)

  • एमएसएमई क्षेत्र में ऊर्जा दक्षता बढ़ाने पर राष्ट्रीय सम्मेलन

 

 एमएसएमई में ऊर्जा कुशल प्रौद्योगिकियों पर मल्टीमीडिया ट्यूटोरियल 

लोहारी

इंडक्शन हीटर के साथ लोहारी भट्ठी आधारित जीवाश्म ईंधन को बदलना

लोहारी

विशेष प्रयोजन तंत्र के साथ कन्वेंशन मशीन को बदलना

लोहारी

ताप उपचार भट्ठी में सूत कातना

स्टील रि-रोलिंग मिल

ऊर्जा दक्ष पल्सवराइज्ड कोल फीडिंग प्रणाली की स्थापना

स्टील रि-रोलिंग मिल

भट्ठी स्वचालन और नियंत्रण प्रणालीm

स्पंज आयरन

रोटरी भट्ठी में उचित तापमान और वायु प्रवाह नियंत्रण के लिए स्वचालन और नियंत्रण प्रणाली की स्थापना

स्पंज आयरन

रोटरी भट्ठी में म्‍यूलाइट आधारित अस्तर को पारंपरिक अस्तर से बदलना

सामान्‍य

बॉयलर में इकोनोमाइजर की स्थापना

सामान्‍य

बॉयलर में एयर प्री-हीटर की स्थापना

स्पंज आयरन

कच्‍ची सामग्री की प्री-हीटिंग के लिए प्री-हीटिंग भट्ठे की स्थापना

स्टील रि-रोलिंग मिल

बिलेट्स की हॉट चार्जिंग

सामान्‍य

पारंपरिक मोटरों को ऊर्जा दक्ष मोटरों के साथ बदलना

मिट्टी के पात्र

सैनिटरी वेयर के लिए टनल भट्ठी में कम तापीय द्रव्यमान वाली कारों की स्थापना

मिट्टी के पात्र

बॉल मिल्स और ब्लुंगर्स में उच्च एल्यूमिना का उपयोग

सामान्‍य

रेसिप्रोकेटिंग कंप्रेसर को ऊर्जा दक्ष स्‍क्रू कंप्रेसर के साथ बदलना

ईंटें

आईडी पंखे लगाने सहित बीटीके फायरिंग से प्रक्रिया का ज़िग-ज़ैग फायरिंग में परिवर्तन

वस्‍त्र

बिजली उत्पादन के लिए बैक प्रेशर माइक्रो टरबाइन की स्थापना

वस्‍त्र

जेट रंगाई मशीन में पीएलसी आधारित स्वचालन और नियंत्रण प्रणाली की स्थापना

वस्‍त्र

डाई लिक्‍वर हीट रिकवरी सिस्टम

सामान्‍य

बॉयलर में स्वचालन और नियंत्रण प्रणाली की स्थापना

सामान्‍य

अप्रत्यक्ष हीटिंग प्रणाली में कंडेंसेट रिकवरी प्रणाली की स्थापना

रसायन

पारंपरिक एजिटेटर प्रणाली को वर्टिकल एजिटेटर प्रणाली के साथ बदलना

सामान्‍य

पारंपरिक ड्रायर/ रोस्टर को माइक्रोवेव/ अवरक्त/ रेडियो फ्रीक्वेंसी ड्रायर/ रोस्टर के साथ बदलना

सामान्‍य

हार्मोनिक फिल्टरों की स्थापना

Chemical

एजिटेटेड फिल्टर ड्रायर की स्थापना

फाउंड्री

इंडक्शन फर्नेस के इनपुट के लिए स्क्रैप प्रोसेसिंग

फाउंड्री

आईजीबीटी आधारित इंडक्शन फर्नेस की स्थापना (12 पल्स)

स्पंज आयरन

स्पंज आयरन संयंत्र में कोयला आधारित गैसीफायर का उपयोग

समुद्री भोजन

शेल और ट्यूब कंडेनसरों/ प्लेट हीट एक्सचेंजरों और कूलिंग टावरों को बाष्पीकरणीय कंडेनसर के साथ बदलना

लोहारी

ईंधन भट्ठी फोर्जिंग भट्ठी में रेकुपरेटर की स्थापना

लोहारी

भट्ठी, ड्रायर और रोस्‍टरों के लिए ईई बर्नर की स्‍थापना

पीतल

कोयले/ एलपीजी फॉयर्ड मेल्‍टिंग भट्टी को आईजीबीटी आधारित इंडक्शन भट्टी के साथ बदलना

सामान्‍य

रियल टाइम निगरानी प्रणाली की स्थापना

फाउंड्री

ऊर्जा दक्ष शेल बेकिंग भट्ठी की स्थापना (निवेश कास्टिंग)

फाउंड्री

लॉस्‍ट फोम कास्टिंग की स्थापना

शीशा

ऊर्जा दक्ष ग्लास बेकिंग

शीत भंडारण

पुरानी पारंपरिक प्रशीतन प्रणाली को दक्ष प्रत्यक्ष ड्राइव अमोनिया कंप्रेसर इन्वर्टर आधारित प्रशीतन प्रणाली के
साथ बदलना

बर्फ बनाना

ट्यूब आइस प्लांट की स्थापना

रेफ्रेक्‍टरी

डाउनवर्ड ड्राफ्ट भट्ठों को टनल भट्टों के साथ बदलना

सामान्‍य

पारंपरिक पंपों को ऊर्जा दक्ष पंपों के साथ बदलना

सामान्‍य

एपीएफसी और सर्वो वोल्‍टेज स्टेबलाइजरों की स्थापना

सामान्‍य

संपीड़ित वायु नियंत्रण प्रणाली की स्‍थापना

सामान्‍य

एमएसएमई प्रक्रियाओं में इंटरनेट ऑफ थिंग्स का अनुप्रयोग

सामान्‍य

एचडीपीई लाइनों की स्थापना सहित ऊर्जा दक्ष संपीड़ित एयर लाइन (रिंग मुख्य प्रणाली) की स्थापना

चाय

विदरिंग के लिए स्‍वचालन और नियंत्रण प्रणाली की स्थापना

स्टील इंडक्शन फर्नेस

लाडल प्री-हीटिंग

पेपर

ऊर्जा दक्ष वैक्यूम पंप की स्थापना

डेयरी

भाप उत्पादन के लिए सोलर थर्मल की स्थापना

सामान्‍य

कंप्रेसर से अपशिष्ट ताप रिकवरी की स्थापना

सामान्‍य

चिलर (डिसुपरहीटिंग) से अपशिष्ट ताप रिकवरी की स्थापना